IFCI MD and CEO, Dr Emandi Sankara Rao and Executive Directors Mr B.N. Nayak (CFO), V S V Rao and Biswajit Banerjee , announcing company.financial results for Q2 FY'18.

SkewedImage

Thesynergyonline
sample12

IFCI registers Q2FY'18 net loss of Rs 12 crore

Thesynergyonline Corporate Bureau

NEW DELHI, NOVEMBER 14 :

IFCI registered net profit of Rs.12 crore in Q2FY18 as against profit of Rs.15 crore Q2FY17 and loss of Rs.(-)277 crore in June 2017 quarter

The company's operational income increased in the Q2FY18 at Rs 880 crore compared to Rs.763 crore in Q2FY17 and Rs.460 crore in June 2017 quarter.

The operational income for the HY1FY18, however declined to Rs.1340 crore compared to Rs.1585 crore in HY1FY17 due to slippages of standard cases in March and June, 2017 quarters, low credit off take and pre-payment of standard assets.

There was loss of Rs.(-)265 crore in HY1FY18 as against loss of Rs.(-)95 crore in HY1FY17 mainly due to higher provisioning in June quarter.

Recoveryfrom NPAs was Rs.587 crore including Rs.280 crore in Q2 of FY 2017-18, as against Rs.141 crore in corresponding half-year of previous year.

Net Interest income was higher in the current quarter at Rs.22 crore vis-à-vis negative Rs.70 crore in the previous quarter.

आईएफसीआई क्यू 2 वित्तीय परिणाम

आईएफसीआई ने 690 करोड़ रुपये के तिमाही के लिए वित्त वर्ष 2016-17 के लिए पीएटी को पोस्ट किया
एमआरपीएल क्यू 2 एफवाई'18 जीआरएम यूएस $ 8.05 / बीबी और (एच 1'18 जीआरएम यूएस $ 6.30 / बीबीएल)

Thesynergyonline कॉर्पोरेट ब्यूरो

नई दिल्ली, 14 नवंबर: परिचालनात्मक आय वित्तीय वर्ष 2017 की द्वितीय तिमाही के 763 करोड़ रुपए तथा जून, 2017 तिमाही के 460 करोड़ रुपए की तुलना में वित्तीय वर्ष 2018 की द्वितीय तिमाही में बढ़कर 880 करोड़ रुपए हो गई ।

तथापि वित्तीय वर्ष 2017 की पहली छमाही के 1585 करोड़ रुपए की तुलना मे घटकर परिचालनात्मक आय वित्तीय वर्ष 2018 की पहली छमाही में 1340 करोड़ रुपए रही, जिसका कारण मार्च तथा जून, 2017 की तिमाहियों में मानक मामलों का अलाभकारी परिसम्पत्ति बन जाना, ऋण की कम मांग तथा मानक परिसम्पत्तियों की समय-पूर्व अदायगी रहे ।

वित्तीय वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही के 15 करोड़ रुपए के लाभ तथा जून 2017 तिमाही के 277 करोड़ रुपए की हानि की तुलना में वित्तीय वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही में निवल लाभ 12 करोड़ रहा ।

वित्तीय वर्ष 2017 की प्रथम छमाही के 95 करोड़ रुपए की हानि की तुलना में वित्तीय वर्ष 2018 की प्रथम छमाही में 265 करोड़ रुपए की हानि रही, जिसका मुख्य कारण जून तिमाही में अधिक प्रावधान किया जाना था ।

वित्तीय वर्ष 2017-18 की दूसरी तिमाही के 280 करोड़ रुपए सहित 587 करोड़ रुपए की अलाभकारी परिसम्पत्तियों से वसूली थी जबकि पिछले वर्ष की इसी तदनुरूपी छमाही में यह 141 करोड़ रुपए थी ।

निवल ब्याज मार्जिन पिछली तिमाही के 70 करोड़ रुपए के नकारात्मक से इस तिमाही में 22 करोड़ रुपए अधिक रहा ।