Director(Tech)
THDC

THDC Director
THDC Director

H.L.Arora takes over as Director (Technical) of THDC India

Thesynergyonline Corporate Bureau

RISHIKESH , DECEMBER 27 :
Harbans Lal Arora assumed the charge of Director (Technical) of THDC India recently . Prior to this Mr Arora was held the charge of ED (OMS, QA & Safety) in Corporate Office Rishikesh.

Mr Arora is a Civil Engineering graduate from Thapar Institute of Engineering & Technology.

He has an illustrative career spanning nearly 36 Years in the Power Sector. He started his career in 1992 as Dy.Manager with THDC India Limited and has wide-ranging experience entailing all aspect of hydropower project business.

He has a strong background in planning, monitoring, rehabilitation, execution of large civil structures including underground works, O&M of Tehri HPP and Koteshwar HEP and has a rich experience of Quality Assurance & Dam Safety.

He has played a key role in diversification of business portfolio of THDC into renewable energy in implementation of Patan and Dwarka Project in record time. Prior to Joining, THDC, he has worked in National Projects Construction Corporation Ltd(NPCC).

He was instrumental in timely completion of cooling towers at Balco Captive Power Plant Korba.

He attended international seminar at Denver (USA) on Dam Safety Evaluation & imparted with exhaustive training in Design of dam and Power House Civil Works by Hydro Project Institute(HPI), Moscow.

He has also visited large hydro projects such as Hoover Dam, Grand Coulee Damsand Volgograd Hydro Electric Project. Mr Arora has keen interest in skill enhancement of employees and imparting knowledge and experiences and associated with various educational and professional institutions of country viz. IITs. CEA, CWC and PMI etc. on various issues pertaining to Power Sector, Hydro Power, River Basin Planning, Disaster Management, Dam Safety etc.

अनुभव

श्री अरोड़ा को लगभग 36 वर्षों का कार्यानुभव है। इस दौरान उन्होंने विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया है। उन्होंने 1992 में टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड में उप प्रबन्धक के पद पर अपना कैरियर शुरू किया और उन्हें हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट व्यवसाय के सभी पहलुओं को लेकर व्यापक अनुभव है। टिहरी एच.पी.पी एवं कोटेश्वर एच.ई.पी. के ओ एंड एम. और भू-भूमिगत कार्यों सहित बडे सिविल संरचनाओं की योजना, निगरानी, पुनर्वास, निष्पादन में उनकी एक मजबूत पृष्ठभूमि है और गुण्वत्ता आश्वासन और बांध सुरक्षा का समृद्ध अनुभव है।
THDC Director

एच.एल. अरोड़ा ने टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड के निदेशक( तकनीकी) का कार्यभार ग्रहण किया

Thesynergyonline कॉर्पोरेट ब्यूरो

ऋषिकेश , 27 दिसंबर:
श्री हरबंस लाल अरोड़ा ने टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड के निदेशक (तकनीकी) का पदभार दिनांक 22 दिसम्बर, 2017 से ग्रहण कर लिया है। भारत में हाइड्रो पावर उत्पादन के क्षेत्र में टीएचडीसी एक प्रमुख उपक्रम है। वर्तमान में इसकी कुल संस्थापित क्षमता 1513 मेगावाट है। निदेशक (तकनीकी) का कार्यभार ग्रहण करने से पूर्व अरोड़ा टीएचडीसी कॉरपोरेट कार्यालय, ऋषिकेश में कार्यपालक निदेशक (ओ.एम.एस.) के पद का दायित्व निर्वाह कर रहे थे।

श्री अरोड़ा को लगभग 36 वर्षों का कार्यानुभव है। इस दौरान उन्होंने विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया है। उन्होंने 1992 में टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड में उप प्रबन्धक के पद पर अपना कैरियर शुरू किया और उन्हें हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट व्यवसाय के सभी पहलुओं को लेकर व्यापक अनुभव है। टिहरी एच.पी.पी एवं कोटेश्वर एच.ई.पी. के ओ एंड एम. और भू-भूमिगत कार्यों सहित बडे सिविल संरचनाओं की योजना, निगरानी, पुनर्वास, निष्पादन में उनकी एक मजबूत पृष्ठभूमि है और गुण्वत्ता आश्वासन और बांध सुरक्षा का समृद्ध अनुभव है।

उन्होंने रिकॉर्ड समय में पाटन और देवभूमि द्वारका परियोजना में अक्षय ऊर्जा में टीएचडीसी के व्यवसाथ पोर्टफोलियों के विविधीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। टीएचडीसी में आने से पूर्व उन्होंने नेशनल प्रोजेक्ट्स कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन लिमिटेड (NPCC) में कार्य किया है। उन्होंने बाल्को कैप्टिव पावर प्लांट कोरबा में कूलिंग टावरों के समय पर पूरा होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

श्री अरोड़ा ने बांध सुरक्षा मूल्यांकन पर डेनवर (U.S.A.) में अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं हाइड्रो प्रोजेक्ट इंस्टीट्यूट (एचपीआई) , मास्को द्वारा बांध और पावर हाउस के सिविल कार्यों के डिजाइन में गहन प्रशिक्षण प्राप्त किया। उन्होंने कई बड़े जलविद्युत परियोजनाओं जैसे हूवर बांध, ग्रैंड कौली डेम्स और वोल्गोग्राड हाइड्रो इलेक्ट्रिक परियोजनाओं का भी दौरा किया है ।

श्री अरोड़ा कर्मचारियों के कौशल विकास में तथा उन्हेंं ज्ञान और अनुभव प्रदान करने में रुचि रखते हैं और पावर सेक्टर, हाइड्रो पावर, रिवर बेसिन प्लानिंग, आपदा प्रबंधन, बांध सुरक्षा आदि से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर देश के विभिन्न शैक्षणिक और व्यावसायिक संस्थानों जैसे आईआईटी, सीईए, सीडब्ल्यूसी और पीएमआई आदि से जुड़े हैं।